नवंबर 2022 में टाटा ग्रुप ने Bisleri को खरीदने में दिलचस्पी दिखाई थी। 

इसके बाद हर जगह बिसलेरी और टाटा ग्रुप के चर्चे शुरू हो गए। 

 टाटा और बिसलेरी की यह डील 7,000 करोड़ में होनी थी। 

यह अधिग्रहण "टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड" द्वारा किया जाना था। 

लेकिन टाटा ने अब इस डील से अपने हाँथ पीछे खींच लिये है। 

टाटा ने एक्सचेंज फाइलिंग में इस डील की बातचीत बंद होने की बात कही है। 

इन दोनों कंपनियों की यह डील अपने अंतिम चरणों में पहुँच चुकी थी। 

इस डील से बिसलेरी के मालिक  1 अरब डॉलर जुटाना चाहते थे। 

लेकिन दोनों पक्ष बिसलेरी की वैल्यूएशन पर सहमत नहीं हो पा रहे थे। 

इसी वजह से अब टाटा ग्रुप ने इस डील से अपना पल्ला झाड़ लिया है।