खेती और मजदूरी करने वाले एक इंसान की कम्पनी ने 16,000 हजार करोड़ का टर्नओवर किया है।

आज हम बात करने वाले है गोविंद लालजीभाई ढोलकिया (GLD) की सफलता के बारे में।

GLD, श्रीरामकृष्ण एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड (SRK) के फ़ाउंडर व डायरेक्टर है।

इन्होंने ज्यादा पढ़ाई नहीं की है और बचपन में 14 घंटे प्रतिदिन खेत में काम किया करते थे।

गोविंद 13 साल की उम्र में काम और पैसों की तलाश में सूरत पहुँच गये।

इन्होंने हीरा पॉलिश का काम शुरू किया और प्रतिदिन 14 घण्टे यही काम करते थे।

पॉलिश की बाद खुरदुरे पत्थर को 28% चमकदार हीरे में बदला जाता था। 

लेकिन गोविंद ने अपनी समझ से 34% चमकदार हीरा प्राप्त किया।

मालिक ने गोविंद की तारीफ करने की बजाय उनको अपना काम करने को कहा।

तभी गोविंद ने अपना बिजनेस शुरू करने की योजना बनाई।

गोविंद ने कुछ लोगों की मादद से 1970 में श्रीरामकृष्ण एक्सपोर्ट्स की शुरुआत की।

सूरत के कतारगाम को अब वैश्विक डायमंड पॉलिशिंग हब माना जाता है।

इसका पूरा श्रेय श्रीरामकृष्ण एक्सपोर्ट्स को ही जाता है।

आज इनकी कम्पनी में 6,000 लोग काम करते है।

इस साल इनकी कम्पनी का टर्नओवर 16,000 करोड़ रुपये रहा है।