आपने क्रिप्टोकरेंसी के बारे में तो जरूर ही सुना होगा?

Arrow

क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी अर्थात डिजिटल मुद्रा होती है। 

पहली क्रिप्टोकरेंसी "बिटकॉइन" थी जो 2009 में शुरू की गई थी। 

2016 के बाद देश में भी क्रिप्टोकरेंसी का काफी क्रेज देखा गया। 

भारत में भी लाखों लोग क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्ट करके पैसा कमा रहे है। 

लेकिन क्रिप्टोकरेंसी को लेकर देश की RBI के सबसे अलग विचार हैं। 

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने क्रिप्टोकरेंसी को फ्रॉड बताते हुए कहा कि-

क्रिप्टोकरेंसी को जुआँ के अलावा और कुछ भी नहीं कहा जा सकता। 

 हम अपने देश में जुए की अनुमति बिल्कुल भी नहीं देते है।

यदि आप इसे जुआँ मानते है तो इसके लिए नियम भी बनने चाहिए।

इससे देश की वित्तीय स्थिरता को बहुत बड़ा खतरा हो सकता है।

शक्तिकांत पहले ही बिटकॉइन को बैन करने की भी माँग कर चुके है। 

Arrow

स्टार्टअप, बिजनेस और फाउंडर्स  की सफलता की कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें