हिंडेनबर्ग की रिपोर्ट ने अडानी ग्रुप को बहुत नुकसान पहुँचाया।

इस रिपोर्ट से निवेशकों व कम्पनियों को भी तगड़ा नुकसान हुआ।

अडानी ग्रुप की विभिन्न कम्पनियों में LIC का ठीक ठाक निवेश है।

31 जनवरी 2023 तक LIC का अडानी ग्रुप में 36,474 करोड़ का निवेश था।

अडानी ग्रुप के ख़िलाफ रिपोर्ट ने LIC को भी जोरदार झटका दिया।

लेकिन LIC अब अपनी गलतियों से सीख लेना चाहती है।

इसीलिए LIC प्राईवेट कम्पनियों में निवेश पर कैप लगाने की योजना बना रही है।

LIC का यह कदम निजी कंपनियों, ग्रुप कंपनियों के लिये होने वाला है।

LIC के इस कदम से ये अपने जोखिम को कम कर सकेंगे।

IDBI सरकारी बैंक में LIC की सबसे ज्यादा हिस्सेदारी मौजूद है।