अनिल अम्बानी की ज्यादातर कम्पनियाँ दिवालिया हो चुकी है। 

दिवालिया कम्पनियों को बेचने का सिलसिला काफी समय से चल रहा है। 

अब अनिल अम्बानी की एक और कंपनी बिकने की कगार पर पहुँच चुकी है। 

Arrow

कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल के बिकने की प्रक्रिया चल रही है। 

CAPITAL

पहले टोरेंट ग्रुप ने 8,640 करोड़ की सबसे बड़ी बोली लगाई थी। 

लेकिन हिंदुजा ग्रुप ने 9,000 करोड़ की बोली लगाकर सबको चौंका दिया है। 

टोरेंट ग्रुप ने 4,000 करोड़ की एडवांस कैश की पेशकश की थी।

लेकिन हिंदुजा ग्रुप ने 8,800 करोड़ की एडवांस कैश की पेशकश की है। 

उधारदाताओं की अगली बैठक 26 दिसंबर 2022 को होनी है। 

अगली बैठक में इस डील का फैसला किया जायेगा। 

Arrow