अडानी ग्रुप ने अपने कर्ज को कम करना शुरू कर दिया है। 

हिंडेनबर्ग रिपोर्ट की वजह से अडानी की छवि धूमिल हो गई थी। 

नेताओं से लेकर जनता तक अडानी ग्रुप के प्रति आक्रोश था। 

लेकिन 3 महीनों बाद हिंडेनबर्ग रिपोर्ट का प्रभाव अब कम हो गया है। 

इसीलिए अडानी ग्रुप अब अपने निवेशकों का भरोसा जीतने में लगा हुआ है। 

अडानी ग्रुप एक के बाद एक बड़े कर्जों को समय से पहले चुका रहा है। 

अडानी ग्रुप ने अब अपने ऊपर  200 मिलियन डॉलर के कर्ज को कम कर दिया है। 

अडानी ग्रुप ने ये कर्ज "अडानी सीमेंट इंडस्ट्रीज लिमिटेड" के लिए लिया था। 

 इस कंपनी ने होल्सिम के भारतीय कारोबार को खरीद लिया था। 

जिसके लिए अडानी ग्रुप ने कई ग्लोबल बैंकों से लोन लिया था। 

उसी बड़े लोन एक हिस्सा अडानी ग्रुप ने समय से पहले चुका दिया है।