Failed 20 times yet Vikas D Nahar made a company worth 1500 crores Happilo success story in hindi

10 हजार से शुरू किया स्टार्टअप, 20 बार असफल हुआ फिर भी बना डाली 1500 करोड़ की कंपनी : Happilo Success Story

Happilo Success Story : अधिकतर लोग जब अपने बिजनेस में दो-तीन बार असफल हो जाते हैं , तो निराश होकर अपना बिजनेस छोड़ देते हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी व्यक्ति होते हैं जो असफलता के बावजूद लगातार प्रयास करते रहते हैं और सफल होकर ही दम लेते है।

ये कहानी है विकास डी नहर की जिन्होंने शून्य से Happilo नामक स्टार्टअप की शुरुआत की और फंडिंग के लिए इंवेस्टर्स से 20 बार रिजेक्शन मिला। रिजेक्शन पर रिजेक्शन मिलने के बावजूद विकास लगे रहे और अंत में जाकर विकास को फंडिंग भी मिली और लगभग 1500 करोड़ रुपये की वैल्यूएशन वाली कम्पनी भी बना डाली।

विकास नहर जन्म व व्यक्तिगत जीवन

विकास नहर का जन्म 1984 में बैंगलोर में हुआ था। इनका परिवार कृषि व्यवसाय से जुड़ा हुआ था जिसके अंतर्गत वो लोग कॉफी व काली मिर्च उगाते थे। विकास के पिता धनमल नहर भी एक व्यापारी है इसीलिए विकास ने बचपन से अपने पिता को ही अपना आदर्श माना है। विकास ने अपने पिता को देखकर ही सीखा है कि धैर्य, दृढ़ता और निडरता सफलता की कुंजी है।

विकास के व्यक्तिगत जीवन की बात करें तो उनका विवाह सुनीता बंसल से 2 मार्च 2014 को हुआ था और उनकी एक पुत्री भी है। विकास के बड़े भाई वीरेंद्र नहर इस समय सात्विक स्पेशलिटी फूड्स में प्रबंध निदेशक (Managing Director) के पद पर कार्यरत हैं।

विकास नहर की शिक्षा व करियर कैसा रहा?

विकास की शुरुआती शिक्षा बेंगलुरु में ही हुई। विकास का परिवार शुरुआत से ही व्यवसाय में लगा हुआ था इसीलिए विकास को भी कम उम्र में ही बिजनेस करने का चस्का लग चुका था। विकास ने बेंगलुरु यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर एप्लीकेशन में अपना ग्रैजूएशन पूरा किया था।

इसके बाद विकास ने साल 2008 से 2 साल के लिए मार्केटिंग से M.BA करने के लिए “सिम्बायोसिस सेंटर फॉर मैनेजमेंट एंड ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट” पुणे में एडमिशन लिया। M.BA करने से पहले विकास ने जैन ग्रुप प्राईवेट लिमिटेड में एशिया के “वरिष्ठ आयात प्रबंधक” के पद पर लगभग 3 सालों के लिए कार्य किया था।

2010 में विकास ने सात्विक स्पेशलिटी फूड्स प्राइवेट लिमिटेड में Managing Director के पद पर कम्पनी को जॉइन किया। वो एक स्वास्थ्य केंद्रित फूड स्टोर था जिसने दिसम्बर 2011 में बैंगलोर में अपनी पहली ब्रांच खोली थी। विकास के कार्यकाल में कम्पनी की जबरदस्त ग्रोथ हुई और उन्होंने 40 विभिन्न प्रकार के सूखे मेवे, 100 विभिन्न प्रकार की चॉकलेट और 60 विभिन्न प्रकार के मसालों को शामिल किया।

विकास को बचपन से Entrepreneur बनने की इच्छा थी इसीलिए उन्होंने 2015 में वो नौकरी छोड़ दी और एक नये व कठिन रास्ते पर निकल पड़े।

Happilo क्या है?

Happilo एक हेल्थ फूड ब्रांड है जो नट्स, सूखे मेवे, बीज, ड्राई रोस्टेड स्नैक्स, ट्रायल मिक्स, फेस्टिव गिफ्ट हैम्पर्स आदि बेचता है। इन्होंने हर उम्र के लोगों के लिए विभिन्न प्रकार के प्रोडक्ट तैयार करके लोगों के दिलों और घरों में जगह बना ली है।

हैप्पीलो सभी प्रमुख मॉडर्न रीटेल व जनरल स्टोर्स पर उपलब्ध है तथा ई-कॉमर्स साइट्स पर खोजा जाने वाला सबसे पॉपुलर FMCG ब्रांड्स में से एक है।

Happilo की शुरुआत कैसे हुई?

विकास बताते है कि “अपनी पढ़ाई पूरी करने, पारिवारिक व्यवसायों में कुछ साल बिताने और अपने स्टार्टअप के झटके से उबरने के बाद, Happilo का जन्म 2016 में हुआ।” विकास ने 10 हजार के शुरुआत निवेश के साथ Happilo की शुरुआत की थी और 7 साल तक इसे सफलता पूर्वक चलाया। जिसको कम्पनी को इन्वेस्टर्स ने 20 बार रिजेक्ट कर दिया था आज वही कम्पनी 500 करोड़ रुपये के सालाना रन रेट पर बिजनेस कर रही है।

हैप्पिलो ने सबसे पहले ‘ट्रेल मिक्स’ नामक अपना पहला प्रोडक्ट लाँच किया। ये प्रोडक्ट मार्केट में जबरदस्त हिट साबित हुआ जिसके बाद विकास ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। कम्पनी ने छोटे पैसेंजर ऑटो से शिपिंग की शुरुआत की थी और आज प्रोडक्ट्स की शिपिंग 40 फुट के बड़े कंटेनर्स द्वारा की जाती है।

विकास के अनुसार “स्टार्टअप चलाना कोई स्प्रिंट नहीं, बल्कि मैराथन है। Entrepreneurship के बीज बचपन में ही बोए गए थे, जब मैं अपने पिता और भाई को अपना खुद का बिजनेस चलाते हुए देखकर बड़ा हुआ था। उन्होंने व जीवन से मैंने सीखा कि धैर्य, दृढ़ता और निडरता सफलता की कुंजी हैं।”

Happilo को अगले 2 सालों में बनाएँगे 1000 करोड़ का ब्रांड?

Happilo के फाउंडर व CEO विकास डी. नहर ने इकोनॉमिक टाइम्स के साथ बातचीत करते हुए कहा कि हमने अपने ब्रांड को अगले 2 सालों में 1000 करोड़ का बनाने का लक्ष्य रखा है।

हैप्पिलो ने अभी तक 44 मिलियन डॉलर की फंडिग उठाई है। 24 जनवरी 2022 को इन्होंने अपनी आखिरी फंडिंग उठाई थी जिसकी वैल्यूएशन लगभग 1500 करोड़ रुपये तय की गई थी।


इसे भी पढ़ें – स्टार्टअप क्या है? एक सफल स्टार्टअप कैसे शुरू करें?


Disclaimer: इस आर्टिकल को कुछ अनुमानों और जानकारी के आधार पर बनाया है हम फाइनेंसियल एडवाइजर नही है आप इस आर्टिकल को पढ़कर शेयर बाज़ार (Stock Market), म्यूच्यूअल फण्ड (Mutual Fund), क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) निवेश करते है तो आपके प्रॉफिट (Profit) और लोस (Loss) के हम जिम्मेदार नही है इसलिए अपनी समझ से निवेश करे और निवेश करने से पहले फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह जरुर ले

Important Information:  Important Information: हम किसी भी तरह की Paid Tips या Advise नहीं देते हैं, साथ ही हम किसी भी स्टॉक को खरीदने की सलाह भी नहीं देते बड़े पब्लिकेशन के द्वारा दी गई जानकारी को हमारे द्वारा पुन अधिक जानकारी के साथ प्रकाशित करते हैं। हम किसी भी तरह की भ्रामक सूचना भी साझा नहीं करते हैं। ध्यान दें कि हम किसी भी प्रकार की Tips और Advise किसी शेयर को खरीदने के लिए हमारे किसी भी प्लेटफार्म जैसे WhatsApp Group, Telegram Group, YouTube पर भी साझा नहीं करते हैं

हमारी टीम से बात करने के लिए मेल करे info.avsvishal@gmail.com

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *